मीडिया जगत से जुड़ी खबरें भेजे,Bhadas2media का whatsapp no - 9411111862

सोशल मीडिया को नियंत्रण में रखने के लिए क्या करे सरकार

 सोशल मीडिया को नियंत्रण में रखने के लिए क्या करे सरकार

सोशल मीडिया को नियंत्रण में रखने के लिए सरकार ने ऐसे-ऐसे कानून बनाए हैं कि मीडिया कंपनियों को उनका अनुपालन भी नहीं सिखा पाई है या वे समझ नहीं पाई हैं। इस पोस्ट पर बिलावजह ये पर्दा किस काम का? इससे कानून के पालन की औपचारिकता के अलावा कौन सी भलाई हो रही है या सोशल मीडिया के उपयोग के तरीकों का कौन का ज्ञान फैलाया जा रहा है?

इस पोस्ट का शीर्षक ही है, एक फर्जी कतरन और मेरे मन की बात। इसमें गलत क्या है और फेसबुक को क्या शक है? जाहिर है, गलत पोस्ट में नहीं कतरन में है और कतरन का यह फर्जीवाड़ा जिसने किया हो उसके खिलाफ कार्रवाई हो तो हमें ऐसी पोस्ट लिखने की जरूरत ही नहीं पड़ेगी। पर कार्रवाई होगी लिखी हुई पोस्ट का रीच कम करने की (या इस आड़ में उसे और लोकप्रिय करने की, जैसी जरूरत हो)। अगर कुछ गलत है तो गलती करने वाले को पकड़ा जाना चाहिए। उसे रोकना चाहिए।

इसे सबसे पहले किसने पोस्ट किया – पता लगाना कोई मुश्किल काम नहीं है। कार्रवाई उसके खिलाफ होनी चाहिए। अगर सबसे पहले पोस्ट करने वाले को पकड़ना मुमकिन नहीं है जो शुरू में गलत पोस्ट को प्रचारित करने वालों के खिलाफ कार्रवाई जरूरी है – पर सरकार से संबंधित ऐसे मामलों में कार्रवाई नहीं होती है। ना पहले अपराधी के जरिए अपराध की जड़ तक पहुंचा जाता है और ना प्रचारकों को रोकने-पकड़ने की कोशिश होती है क्योंकि वे भी सिस्टम जी का ही काम कर रहे हैं। इस चक्कर में सरकार जी मजबूत हो रहे हैं और सिस्टम जी का बाजा बज रहा है।

संजय कुमार सिंह

भड़ास 2मीडिया भारत का नंबर 1 पोर्टल हैं जो की पत्रकारों व मीडिया जगत से सम्बंधित खबरें छापता है ! पत्रकार और मीडिया जगत से जुडी और शिकायत या कोई भी खबर हो तो कृप्या bhadas2medias@gmail.com पर तुरंत भेजे अगर आप चाहते है तो आपका नाम भी गुप्त रखा जाएगा क्योकि ये भड़ास2मीडिया मेरा नहीं हम सबका है तो मेरे देश के सभी छोटे और बड़े पत्रकार भाईयों खबरों में अपना सहयोग जरूर करे हमारी ईमेल आईडी है bhadas2medias@gmail.com आप अपनी खबर व्हाट्सप्प के माध्यम से भी भड़ास2मीडिया तक पहुंचा सकते है हमारा no है 09411111862 धन्यवाद आपका भाई संजय कश्यप भड़ास2मीडिया संपादक  

Leave a Reply

Your email address will not be published.